एच.पाइलोरी संक्रमण

एच.पाइलोरी संक्रमण का इलाज

एच.पाइलोरी संक्रमण तब होता है जब “एच.पाइलोरी” नामक एक प्रकार का बैक्टीरिया किसी व्यक्ति के पेट को संक्रमित करता है। कई लोगों को एच.पाइलोरी संक्रमण होता है। ज्यादातर समय, एच.पाइलोरी संक्रमण किसी भी समस्या का कारण नहीं बनता है, और न ही कोई लक्षण पैदा करता है। लेकिन कुछ लोगों में, एच.पाइलोरी संक्रमण समस्याओं का कारण बनता है और कुछ लक्षण भी पैदा कर सकता है। निम्न जैसी समस्याओं हो सकती हैं:

  • किसी व्यक्ति के पेट या ग्रहणी के अस्तर पर, खुले घाव जिन्हें “अल्सर” कहा जाता है – ग्रहणी छोटी आंत का पहला भाग होता है।
  • आमाशय का कैंसर होना 

ये स्थितियां कभी-कभी ऊपरी पेट में दर्द, या असुविधा एवं बेचैनी, या फिर मतली या उल्टी का कारण बन सकती हैं।

डॉक्टरों को अभी तक यह नहीं पता है कि एच.पाइलोरी संक्रमण कुछ लोगों में समस्याओं का कारण बनता है और दूसरोंमें क्यों को नहीं बनता।

एच.पाइलोरी संक्रमण वाले अधिकांश लोगों में कोई लक्षण नहीं होते हैं। लेकिन जिन लोगों को अल्सर होता है, उन्हें अल्सर के कारण होने वाले लक्षण हो सकते हैं। अल्सर के सामान्य लक्षणों ऐसे सकते हैं:

  • ऊपरी पेट में दर्द या बेचैनी
  • थोड़ी मात्रा में भोजन करने के बाद पेट भरा हुआ महसूस होना
  • भूख न लगना
  • मितली अथवा उलटी 
  • गहरे या काले रंग का मल त्याग
  • सामान्य से अधिक थकान महसूस होना

सभी अल्सर, एच.पाइलोरी संक्रमण के कारण नहीं होते हैं। उदाहरण के लिए, लोगों को कुछ दर्द निवारक दवाएं लेने से भी अल्सर हो साकते हैं। लेकिन अगर आपको ऊपर सूचीबद्ध लक्षण मेशूस हुए हैं, तो अपने डॉक्टर को तुरंत बताएं।

हाँ। एच.पाइलोरी संक्रमण के निदान के लिए डॉक्टर विभिन्न परीक्षण कर सकते हैं। निम्न जैसे हो सकते हैं:

  • रक्त परीक्षण
  • सांस का परीक्षण – ये परीक्षण किसी व्यक्ति को एक विशेष तरल पीने के लिए दिया जाने के बाद उसकी सांस में पदार्थों को मापता है।
  • लैब परीक्षण जो एच.पाइलोरी संक्रमण के लिए मल त्याग के नमूने की जांच करते हैं
  • बायोप्सी (Biopsy) – इस परीक्षण के लिए, डॉक्टर पेट के अस्तर से ऊतक का एक छोटा सा टुकड़ा लेते हैं। फिर वह एक माइक्रोस्कोप के तहत ऊतक को देखते हैं। डॉक्टर एंडोस्कोपी नामक प्रक्रिया के दौरान बायोप्सी कर सकते हैं। यह एंडोस्कोपी एक ऐसी प्रक्रिया है जो चिकित्सक को अन्नप्रणाली, पेट, और ग्रहणी के अंदर के अस्तर (यानी के पतली परत) को देखने देती है।

आपको एच.पाइलोरी संक्रमण का परीक्षण करना चाहिए यदि आपको संक्रमण के लक्षण मेह्सूस होते हैं और:

  • पेट या ग्रहणी में अल्सर हो
  • अतीत में अल्सर हुए थे
  • पेट का कैंसर हुआ था 
  • यदि आपको लंबे समय तक एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाई या एस्पिरिन (Aspirin) पर रहने की आवश्यकता है

डॉक्टर कभी-कभी ऐसे लक्षणों वाले लोगों का भी परीक्षण करते हैं जिन्हें कभी अल्सर नहीं हुआ है।

एच.पाइलोरी संक्रमण का इलाज दवाओं के साथ किया जाता है। अधिकांश लोगों को 2 सप्ताह के लिए 3 या अधिक दवाएं लेने की आवश्यकता होती है। इन दवाओं में शामिल हैं:

  • पेट में बनने वाले एसिड की मात्रा को कम करने के लिए दवाएं – यह संक्रमण को ठीक करने, और अल्सर को ठीक करने में मदद कर सकता है।
  • विभिन्न प्रकार के एंटीबायोटिक्स (antibiotics)

जिन लोगों में एच.पाइलोरी संक्रमण पाया जाता है, उन्हें इलाज करवाना चाहिए, क्योंकि उपचार से निम्न हो सकता है:

  • अल्सर को ठीक करने में मदद करें
  • अल्सर को वापस आने से रोकें
  • अल्सर खराब हो जाए या कैंसर हो जाने की संभावना को कम करें

अपने डॉक्टरों के सभी दवाइयाँ लेने के निर्देशों का पालन करना अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। अपने चिकित्सक को बताएं कि — “क्या आपके दवाओं के साथ कोई दुष्प्रभाव या समस्या है”।

उपचार के बाद, अधिकांश लोगों के पास यह जांचने के लिए अनुवर्ती परीक्षण हैं कि एच.पाइलोरी संक्रमण चला गया है। अनुवर्ती परीक्षणों निम्न जैसे हो सकते हैं:

  • सांस की जाँच
  • लैब परीक्षण जो मल त्याग के नमूने की जांच करते हैं
  • बायोप्सी के साथ अपर एंडोस्कोपी

ज्यादातर समय, एच.पाइलोरी संक्रमण उपचार के साथ ठीक हो ही जाता है। लेकिन कभी-कभी, इलाज से एच.पाइलोरी संक्रमण ठीक नहीं होता है। जिन लोगों को इलाज के बाद भी एच.पाइलोरी संक्रमण है, उन्हें अधिक दवाएँ लेने की आवश्यकता हो सकती है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp
Email
Skype
Telegram
Dr. Harsh J Shah