मल में खून / ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools)

मल में खून का उपचार

“मल त्याग” के लिए “मल” या स्टूल (Stool) एक और शब्द है। यदि आपको मल त्याग के दौरान ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) निकल रहा है, तो आपको हल्का लाल रक्त ऐसे दिखाई दे सकता है:

  • टॉयलेट पेपर पर पोंछने के बाद
  • बाथरूम जाने के बाद शौचालय में
  • अपने मल की सतह पर या मल के साथ मिश्रित

कुछ मामलों में, ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) का रंग ख़ून जैसा लाल दिखने के बजाए काले टार की तरह दिखता है। आमतौर पर, पाचन तंत्र (आकृति) में बहुत अंद्रोनी जगहों पर रक्तस्राव होने के कारण मल टार के रंग की तरह दिखते हैं।

  • आमतौर पर, यह दो सबसे सामान्य कारण हैं जो गंभीर नहीं होते:

    • बवासीर – ये गुदा में रक्त वाहिकाएं होती हैं। बवासीर में खुजली या चोट लग सकती है।
    • एनल (गुदा) फ़िश्यर्स (Anal Fissures) – ये गुदा में जो त्वचा होती है, उसपे चिरें बन जाती हैं।

    कभी-कभी, ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) गंभीर होते हैं। वे पाचन तंत्र में कैंसर या अन्य समस्याओं का संकेत हो सकते हैं।

ये लक्षण दिखा सकते हैं कि आपकी समस्या क्या है और अगर वह गंभीर है:

  • गुदा में खुजली या दर्द
  • मल त्याग के दौरान चिरने जैसी एहसास या जलन की भावना
  • रात में बुखार / ज्वर, वजन कम होना और भारी पसीना आना
  • दस्त
  • ऐसा महसूस करना कि आपको मल त्याग करने की आवश्यकता है, लेकिन जाने पर हो नहीं पा रहे हों
  • पेट में दर्द
  • मल त्याग जो काले या गहरे लाल रंग का दिखाई देता है
  • आपको कितनी बार मल त्याग करने जाना पड़े, या फिर मल कठोर या नरम में परिवर्तित होना
  • रक्तस्राव जो लंबे समय तक चलता है या जो बार-बार वापस आता है
  • यदि आपको अपने मल त्याग के साथ कभी भी रक्त देखता है तो तुरंत अपने चिकित्सक को जाँच करवाने चले जाएँ। ज्यादातर मामले गंभीर नहीं हैं। लेकिन, ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) वाले किसी भी दर्दी को अपने डॉक्टर को तुरंत दीखा देना जाना चाहिए।

आपकी उम्र, अन्य लक्षण और व्यक्तिगत स्थिति के आधार पर आपको कौन से परीक्षण करने चाहिए यह आपके डॉक्टर तय करेंगे। 

निम्नलिखित परीक्षण, सबसे आम तरीक़े हैं जिस्से, डॉक्टर ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) के कारण खोजने के लिए करते हैं:

  • रेक्टल एग्ज़ाम (Rectal Exam) – आपके डॉक्टर आपको गुदा के बाहर का भाग देखेंगे। वह उसके भी खुलने वाले हिस्से के अंदर महसूस करने के लिए उंगली का उपयोग करेंगे।
  • एनोस्कोपी (Anoscopy) – आपके डॉक्टर उनके कार्यालय में, आपकी गुदा में एक छोटी ट्यूब डालेंगे। ट्यूब मलाशय (बड़ी आंत के निचले हिस्से) में कुछ इंच तक अंदर जाती है। इस पर प्रकाश लगायी होती है जिस्से  डॉक्टर अंदर आसानी से देख सकते हैं।
  • सिग्मायडोस्कोपी या कोलोनोस्कोपी (Sigmoidoscopy or Colonoscopy) – इन परीक्षणों के लिए, डॉक्टर आपको गुदा में एक पतली ट्यूब डालते हैं। फिर, वह आपकी बड़ी आंत में ट्यूब को आगे बढ़ाता है। बड़ी आंत को कोलन (Colon) यानी के बृहदान्त्र भी कहा जाता है। ट्यूब में एक कैमरा लगा होता है, जिससे डॉक्टर आपकी आंतों के अंदर देख सकते हैं। इन परीक्षणों के दौरान, डॉक्टर एक माइक्रोस्कोप (आकृति) के नीचे देखने के लिए सतह की पतली परत के नमूने भी ले सकते हैं।

आपके ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) का क्या कारण है, इस बात पर उपचार के तरीक़े निर्भर करता है। ऐसा भी हो सकता है की आपको कोई ख़ास उपचार की आवश्यकता ही ना हो सके। यदि आवश्यकता है, तो निम्नलिखित उपचार में से कोई भी हो सकते हैं:

  • फाइबर की खुराक और दवाएं, जो आपके मल को नरम रखने के लिए सहायता करें 
  • लगभग 15 मिनट के लिए, दिन में कई बार, गर्म पानी में बैठें
  • क्रीम और दवाएं जो आपको गुदा पर या उसके अंदर लगायी जाती हैं। ये दर्द, खुजली और सूजन से राहत मिलने में मदद करते हैं।
  • पाचन तंत्र के रोगों के लिए अधिक गंभीर दवाएं

यदि आपको बवासीर है, तो आप दिन भर बहुत सारा पानी पीने, और बहुत सारे फाइबर वाले (Fiber) खाना खाने से, ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) होने की संभावना कम कर सकते हैं। फलों, सब्जियों, और नाश्ते के अनाज (टेबल) में फाइबर ज़्यादा होता है। कब्ज (मल त्याग करने में परेशानी) को रोकने के लिए आपको दवाइयाँ की भी आवश्यकता हो सकती है।

बच्चों और शिशुओं में, ब्ल्डी स्तूल्स (Bloody Stools) का एक लक्षण हो सकता है:

  • बड़े आँतों में या कठोर मल त्याग करते समय (गुदा) एनल फ़िश्यर्स (Anal Fissures) हो।
  • एक ऐसी स्थिति जो दूध या सोया को पचाने में कठिन बनाती है
  • वायरस या बैक्टीरिया से संक्रमण, या फिर फूड पॉइजनिंग
  • पाचन तंत्र को प्रभावित करने वाले रोग
  • खाद्य पदार्थ और दवाएं जो रक्त की तरह दिखती हैं, लेकिन वे होती नहीं हैं (टेबल)

यदि आप अपने बच्चे के डायपर या मल त्याग में रक्त को नोटिस करते हैंतो उसे डॉक्टर को देखने के लिए तुरंत ले जाएं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp
Email
Skype
Telegram
Dr. Harsh J Shah