गैस्ट्राइटिस

गैस्ट्राइटिस का इलाज

“गैस्ट्रिटिस” का अर्थ है, पेट की परत में सूजन।

कुछ लोगों में अचानक से गैस्ट्राइटिस होता है, और थोड़े समय के लिए ही रहता है। डॉक्टर इसे “अक्यूट” यनी के “तीव्र” गैस्ट्राइटिस कहते हैं। अन्य लोगों में गैस्ट्राइटिस होता है, जो महीनों या वर्षों तक रहता है। डॉक्टर इसे “क्रोनिक” (Chronic) गैस्ट्राइटिस कहते हैं।

विभिन्न चीजें गैस्ट्राइटिस का कारण बन सकती हैं, जैसे की:

  • “एच.पाइलोरी” (H. pylori)नामक बैक्टीरिया से पेट में संक्रमण
  • “नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स” (NSAIDs) (“nonsteroidal anti-inflammatory drugs”)नामक दवाएं – इनमें एस्पिरिन(aspirin),इबुप्रोफेन (ibuprofen)(ब्रांड नाम: एडविल- Advil, मोट्रिन-Motrin,) और नेप्रोक्सन(naproxen) (ब्रांड नाम: आलेव- Aleve, नेप्रोसिन – Naprosyn) शामिल हैं।
  • दारू पीना
  • ऐसी स्थितियाँ जिनमें शरीर की संक्रमण-लड़ने की प्रणाली पेट की परत पर हमला करती है
  • गंभीर या जानलेवा बीमारी होना

गैस्ट्राइटिस वाले लोगों में कोई लक्षण नहीं होते हैं। जब लोगों को गैस्ट्राइटिसहोता है तो लक्षण किसी अन्य स्थितियों — जो गैस्ट्राइटिस के साथ हो सकती हैं— के कारण होते हैं, जैसे की अल्सर।

अल्सर के लक्षणों हैं:

  • ऊपरी पेट में दर्द
  • कम मात्रा में भोजन करने के बाद फूला हुआ महसूस होना या भरा हुआ महसूस करना
  • कम भूख लगना
  • मितली अथवा उलटी
  • खून की उल्टी, या काले रंग का मल त्याग करना

अपने डॉक्टर को फ़ोन कॉल करें यदि:

  • आपको पेट दर्द होता है, जो बदतर हो जाता है या बंध होता नहीं है
  • आपको खून की उल्टी होती है या आपका मल त्याग काले रंग का निकलता है
  • आपका वजन कम हो रहा हैं (बिना कोशिश किए)

शायद। आपके डॉक्टर आपके लक्षणों के बारे में पूछेंगे, और एक परीक्षा करेंगे। वह निम्न में से भी कुछ कर सकता है:

  • अपर एंडोस्कोपी – इस प्रक्रिया के दौरान, डॉक्टर एक कैमरा वाली पतली ट्यूब को आपके मुंह से अंत में,नीचे की ओर आपके पेट (आकृति) में डालते हैं। वह आपके पेट के अंदर देखेंगे। प्रक्रिया के दौरान, वह बायोप्सी (Biopsy)नामक एक परीक्षण भी कर सकता है। बायोप्सी के लिए, डॉक्टर पेट के पतली परत यनी के अस्तर का एक छोटा सा नमूना लेते हैं। फिर दूसरे डॉक्टर एक माइक्रोस्कोप के तहत इस नमूने निरक्षण करेट हैं।
  • एच.पाइलोरी (H.Pylori) के संक्रमण की जाँच के लिए टेस्ट। जैसे कि:

o रक्त परीक्षण

o सांस का परीक्षण – एक विशेष तरल पीने के बाद ये परीक्षण आपकी सांस में पदार्थों को मापते हैं।

o आपके मल के एक छोटे से नमूने का परीक्षण

  • बेरियम स्वोलो (यनी के निगलना)–आपके डॉक्टर आपको “बेरियम” नामक एक पेय देंगे। फिर वह एक्स-रे निकालेंगे जब बेरियम आपके पेट के माध्यम से नीचे उतर रहा होता है।
  • एनीमिया (Anaemia) की जाँच के लिए रक्त परीक्षण

आपके गैस्ट्राइटिस का कारण क्या है,इस बात पर उपचार निर्भर करता है।

उदाहरण के लिए, यदि NSAIDs की दवाइयाँ आपके गैस्ट्राइटिस का कारण बन रहे हैं, तो आपका डॉक्टर यह सलाह देगा कि आप उन दवाओं को न लें। यदि शराब आपके गैस्ट्राइटिस का कारण बन रही है, तो वह सिफारिश करेंगे कि आप शराब पीना बंद कर दें।

H.Pyloriके संक्रमण के कारण होने वाले गैस्ट्राइटिस के इलाज के लिए डॉक्टर दवाओं का उपयोग कर सकते हैं। अधिकांश लोग 2 सप्ताह के लिए 3 या अधिक दवाएं लेते हैं। उपचार में एंटीबायोटिक्स एवं और दवाइयाँ होती हैं, जो पेट को कम एसिड बनाने में मदद करती है।

डॉक्टर गैस्ट्राइटिस(तालिका) के अन्य कारणों का इलाज करने के लिए दवाओं का उपयोग कर सकते हैं, जो पेट के एसिड को कम या सम्पूर्ण अवरुद्ध कर सकते हैं। पेट की एसिड को कम करने या ब्लॉक करने वाली मुख्य प्रकार की दवाएं हैं:

  • एंटेसिड्स (Antacids)
  • सरफ़ेस एजेंट्स (Surface Agents)
  • हिस्टामाइन ब्लॉकर्स (Histamine blockers)
  • प्रोटॉन पंप इनहिबिटर्स यनी के अवरोधक(Proton pump inhibitors)

यदि आपके डॉक्टर एसिड-कम करने वाले उपचार की सलाह देता है, तो वह आपको बताएँगे कि आपको किस दवा का उपयोग करना है।

कभी-कभी, जिन लोगों को H.Pyloriसंक्रमण का इलाज किया जाता है, उन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए अनुवर्ती परीक्षणों की आवश्यकता होती है कि संक्रमण सम्पूर्ण रूप से चला गया है। अनुवर्ती परीक्षणों में श्वास परीक्षण, मल त्याग के एक नमूने पर प्रयोगशाला परीक्षण या एंडोस्कोपी करवानी होती हैं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp
Email
Skype
Telegram
Dr. Harsh J Shah