...
लैक्टोज असहिष्णुता का इलाज

लैक्टोज असहिष्णुता एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपके शरीर को दूध और दूध से बने खाद्य पदार्थ (जिसे डेयरी उत्पाद कहा जाता है) पचाने में मुश्किल होती है। यदि आपको लैक्टोज असहिष्णुता है, और आप डेयरी उत्पाद खाते हैं, तो आपको दस्त, पेट दर्द, और गैस हो सकते हैं।

लैक्टोज असहिष्णुता किसी को भी प्रभावित कर सकती है। लेकिन यह मूल अमेरिकी, एशियाई, और अफ़रिका के काले लोगों में सबसे आम तक्लीफ़ है।

जिन लोगों में लैक्टोज असहिष्णुता नहीं होती है, उनका शरीर एक “एंजाइम” नामक एक प्रोटीन बनाता है, जो लैक्टोज को तोड़ता और पचाता है। दूध में “चीनी या शर्करा” का मुख्य रूप में पाया जाने वाले द्रव्य को लैक्टोज कहते हैं। लैक्टोज असहिष्णुता वाले लोगों के शरीर में — या तो पर्याप्त मात्रा में एंजाइम बनाता ही नहीं है, या फिर वह एंजाइम उतना असरदार काम नहीं करता है जितना इसे करना चाहिए। 

इसके अलावा, कुछ संक्रमण, जैसे कि आपको यदि विषाक्त भोजन यानी के फ़ूड पॉइज़निंग (Food Poisoning) कभी हुआ हैं, तो आपके शरीर में इस एंजाइम को नुकसान पहुंचा हैं। लेकिन अगर ऐसा होता है, तो आमतौर पर यह समस्या कुछ हफ्तों में अपने आप ठीक हो जाती है। 

सौभाग्य से, लैक्टोज असहिष्णुता वाले लोग अपनी समस्या को हल करने के लिए एक एंजाइम पूरक (enzyme supplement) ले सकते हैं।

जब आप कोई डेयरी खाद्य पदार्थ खाते हैं केवल तभी ही लक्षण मेह्सूस होते हैं। लक्षण इस्स प्रकार हो सकते हैं:

  • ऐंठन या पेट दर्द (आमतौर पर पेट की नाभि के आसपास या उसके नीचे का क्षेत्र)
  • सूजन या फूलन मेह्सूस होना (अपने पेट को हवा से भरा हुआ मेह्सूस होना)
  • गैस
  • दस्त (अक्सर यह भारी, झागदार, और पानीदार जैसा होता है)
  • उल्टी होना (यह ज्यादातर किशोरो में ही होता है)

हां, लैक्टोज असहिष्णुता के लिए परीक्षण करने के 2 तरीके हैं। एक श्वास परीक्षण है, और एक रक्त परीक्षण है। श्वास परीक्षण अधिक सामान्य है।

आपके डॉक्टर आपको बताएँगे कि आपको अपने परीक्षण की तैयारी कैसे करनी है। वह आप परीक्षण से पहले कई घंटों तक कुछ भी खाने या पीने को टालने को कहेंगे। साथ ही, आपको परीक्षण से पहले कुछ समय के लिए अपनी दवाओं को बदलना (या कुछ दिन नहीं लेने) या धूम्रपान बंद करना पड़ सकता है।

  • लैक्टोज हाइड्रोजन सांस परीक्षण (Lactose hydrogen breath test) – इस परीक्षण के लिए, आप एक तरल पीते हैं जिसमें लैक्टोज होता है। फिर आप हर 30 मिनट में एक विशेष मशीन में सांस लेते हैं। यह मशीन मापती है कि आप कितना हाइड्रोजन साँस में बाहर छोड़तें हैं। लैक्टोज असहिष्णुता वाले लोग सामान्य से अधिक हाइड्रोजन सांस में लेते बाहर छोड़तें हैं।
  • लैक्टोज टॉलरेंस टेस्ट (Lactose tolerance test) – इस परीक्षण के लिए, आप एक तरल पीते हैं जिसमें लैक्टोज होता है। परीक्षण शुरू होने पर, और फिर हर 1 और 2 घंटे बाद डॉक्टर आपसे रक्त के नमूने लेंगे। यदि लैक्टोज पीने के बाद आपके रक्त में शर्करा का स्तर कम है, तो इसका मतलब है कि आपको संभवतः लैक्टोज असहिष्णुता है।

हाँ। यदि आपको लगता है कि आपको लैक्टोज असहिष्णुता हो सकती है, तो अपने डॉक्टर को बताएं। कोई और समस्या ना हो, यह यह सुनिश्चित करने के लिए वह आपसे सवाल कुछ पूछ सकते हैं।

आपकी समस्या कितनी गंभीर है इस बात पर सर्व उपचार निर्भर करते हैं। लेकिन सामान्य तौर पर, उपचार में निम्न प्रयोग हो सकते हैं:

  • कम डेयरी–युक्त भोजन खाना 
  • डेयरी स्रोत के अलावा पोषक तत्वों प्राप्त करने के और कोई स्रोत (जैसे कैल्शियम और विटामिन डी), और प्रोटीन का पता लगाना
  • एक एंजाइम पूरक लेना जो आपको डेयरी खाद्य पदार्थों को पचाने में मदद करे

यदि आपको पता है कि जिनमें डेयरी-युक्त भाग हो सकता है, उन डेयरी-युक्त खाद्य पदार्थों को खाने से बंध करने के बजाय, उन्हें खाने की मात्रा या खुराक में कटौती करना शुरू कर सकते हैं। अन्यथा, आप भोजन के साथ डेयरी खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। डेयरी खाद्य पदार्थों में दूध, क्रीम, आइसक्रीम, दही, पनीर, और मक्खन शामिल हैं। निम्न तालिका दर्शाती है कि कुछ सामान्य डेयरी खाद्य पदार्थों (तालिका) में लैक्टोज परमाण कितना होता है।

आपके डॉक्टर सुझाव दे सकते हैं कि आप एक पोषण विशेषज्ञ से बात करें कि, “किन खाद्य पदार्थों में लैक्टोज होता है?”। पोषण विशेषज्ञ यह भी सुनिश्चित कर सकते हैं कि, आपको अपने आहार में से कैल्शियम और विटामिन डी पर्याप्त मात्रा में कैसे प्राप्त हो।

यदि आप डेयरी खाद्य पदार्थों या लैक्टोज के प्रति अती-संवेदनशील हैं, तो आपको अपने द्वारा खाए जाने वाले सभी चीजों के लेबल पढ़ने की निस्चित रूप से अनिवार्य है। दूध या लैक्टोज कभी-कभी ऐसे खाद्य पदार्थों में भी मिलाया जाता है जिन पर आपको संदेह नहीं हो सकता है। जैसे की सिरियल्स, “इँस्टंट सूप्स”, और सलाद ड्रेसिंग़्स। 

ऐसी कोई भी चीज़ है जिसमें कि लैक्टोज हो सकता है ऐसे खाद्य पदार्थों की घटक सूची की निस्चित रूप से जाँच करें। उसके लिए, इन शब्दों को खोजें:

  • दूध, “दूध से उत्पाद,” “सूखा दूध पाउडर,” और “सूखा दूध सॉलिड्ज़”
  • लैक्टोज
  • मट्ठा (मट्ठा दूध है जो खट्टा हो गया है), जिसे व्हेय (Whey) भी कहा जाता है

कुछ दवाइयों में लैक्टोज को मिलाकर बनाया जाता है। किंतु ज्यादातर लोग जो लैक्टोज असहिष्णु हैं, वे ऐसी दवाइयों में पाए जाने वाले बहुत कम मात्रा के लैक्टोज को शन कर सकते हैं।

आपके चुनने के लिए कई एंजाइम की खुराक है — जिसमें लैक्टैड (Lactaid) (टैबलेट या तरल रूप में), लैक्ट्रास (Lactrase), लैक्टैस (LactAce), डेयरी ईज़ (Dairy Ease), और लैक्ट्रोल (Lactrol) शामिल हैं। 

आपको खाना शुरू करने से पहले यह पूरक लेना चाहिए। यदि आप भूल जाते हैं, तो आप इसे भोजन करने के दौरान भी ले सकते हैं, किंतु यह उतने तीव्रता से काम कदाचित न कर सके।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक उत्पाद का प्रभाव या उसकी की असर प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग तरीके से हो सकती है। इसके अलावा, उनमें से कोई भी लैक्टोज के हर आखिरी अंश को पूर्ण रप से हज़म या तोड़ नहीं सकता है। इसलिए, एंजाइम पूरक लेने के पश्चात भी कुछ लोगों में लैक्टोज असहिष्णुता के लक्षण मेह्सूस होते हैं।

यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप डेयरी खाद्य पदार्थों से पूरी तरह को टालतें या बंध करते हैं या नहीं। यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपके डॉक्टर कैल्शियम की खुराक की सिफारिश करेंगे। वह आपके विटामिन डी के स्तर की जांच भी कर सकते हैं, जिसके आधार पर वह तय करेंगे की आपको पूरक आहार विटामिन डी की खुराक लेनी चाहिए या नहीं।

नहीं, ऐसे लोग हैं जिन्हें दूध और डेयरी खाद्य पदार्थों से एलर्जी (allergy) होती ही है। लेकिन डेयरी एलर्जी के लक्षण अक्सर लैक्टोज असहिष्णुता के लक्षणों से बहुत अलग होते हैं। डेयरी एलर्जी के मामले में, शरीर दूध में प्रोटीन की प्रतिक्रिया करता है, बजाय के लैक्टोज–आधारित चीनी-शर्करा से प्रतिक्रिया करना। साथ ही, एलर्जी में शरीर की संक्रमण-लड़ने वाली प्रणाली की सक्रियता भी शामिल होती है, जिसे प्रतिरक्षा प्रणाली कहा जाता है। लैक्टोज असहिष्णुता में इसकी कोई भी भूमिका नहीं होती है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp
Email
Skype
Telegram
Seraphinite AcceleratorOptimized by Seraphinite Accelerator
Turns on site high speed to be attractive for people and search engines.