जॉन्डिस (पीलिया)

28. पीलिया blog

पीलिया आंखों, मूत्र और त्वचा का पीलापन है। यह कभी-कभी त्वचा की तीव्र खुजली, भूख कम लगना और वजन घटने का कारण बन शकता है।

पीला रंग बिलीरुबिन से आता है। जब भी रक्त में बिलीरुबिन का स्तर बढ़ता है, तो यह आंखों, त्वचा और मूत्र पर पीला रंग देता है। बिलीरुबिन के बढ़े हुए स्तर के कई कारण होते हैं जैसे कि लाल रक्त कोशिकाओं का बढ़ता विनाश, लीवर की समस्या, पित्त नली में रुकावट आदि।

पीलिया कई कारणों से हो सकता है, जिनमें से सबसे आम लिवर रोग है। लीवर की समस्याओं के कारण निम्नलिखित हैं जो पीलिया का कारण बनते हैं।
  • हेपेटाइटिस
  • लिवर फेलियर (लीवर का काम करना बंद कर देना)
  • लीवर सिरोसिस
  • पित्त नली की रुकावट
  • लीवर कैंसर

पीलिया का इलाज विशेष पीलिया उपचार केंद्र या अस्पताल में किया जाता है। पीलिया डॉक्टर को आमतौर पर हिपेटोलॉजिस्ट या लीवर सर्जन कहा जाता है।

पीलिया का उपचार उसके कारण के अनुसार किया जाता है। यदि पित्त नली में रुकावट है तो रोगी को स्टेंट लगाने या ऑपरेशन की आवश्यकता होगी। यदि लीवर की बीमारी जैसे लीवर फेल होना, हिपेटाइटिस, सिरोसिस या लीवर कैंसर इसका कारण है, तो इसके लिए उचित उपचार की आवश्यकता होगी।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp
Email
Skype
Telegram
Dr. Harsh J Shah