कोलन और रेक्टल कैंसर

कोलन और रेक्टल कैंसर के टॉप डॉक्टर

वह कैंसर जो बड़ी आंत (जिसे कोलन के नाम से जाता है) या मलाशय/ रेक्टम (Rectum) को प्रभावित करता है उसे कोलोरेक्टल कैंसर कहते हैं। शब्द “कोलोरेक्टल” — कोलन और रेक्टल को जोड़ कर बनाया गया संधि शब्द है। कोलोरेक्टल कैंसर गंभीर हो सकता है। लेकिन इसके इलाज के कई तरीके हैं।

  • हां, कुछ ख़ास परीक्षण हैं जो कोलोरेक्टल कैंसर का पता लगा सकते हैं। आपके डॉक्टर आपको सारे विकल्प बताएँगे। यदि आपके डॉक्टर को लगता है कि आपको शायद कोलोरेक्टल कैंसर है, तो आपको तुरंत ही “कोलोनोस्कोपी” नामक एक परीक्षण करवाने के लिए कहेंगे।   यह कोलोनोस्कोपी के दौरान, डॉक्टर एक ट्यूब जिस्पे एक छोटा कैमरा होता है, वह आपके गुदा में डालते हैं। इससे वह कैंसर या अन्य समस्याओं की तलाश कर सकते हैं।

कोलोरेक्टल कैंसर का कोई लक्षण पहले से नहीं दिख सकते। जब लेकिन, निमलिखित लक्षण हो सकते हैं:

  • पेट दर्द
  • आपके मल त्याग में परिवर्तन (दैनिक संख्या, उसकी बनावट, या आकार)
  • आपके मल त्याग में खून आना

• कमजोरी या थकान महसूस होना

  • कोलोरेक्टल कैंसर के अधिकांश प्रकारों का उपचार, निमलिखित में से एक या अधिक सुझाए जा सकते हैं:

    • कोलन (Colon) या बृहदान्त्र या मलाशय / रेक्टम (Rectum) के कैंसर को हटाने के लिए सर्जरी
    • कीमोथेरेपी (Chemotherapy), कैंसर की दवाईयों का एक प्रकार है जो कैंसर कोशिकाओं को मारती हैं या उन्हें बढ़ने से रोकते हैं।
    • विकिरण उपचार / रेदिएशन थेरपी (Radiation therapy)

यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपने किस प्रकार की सर्जरी करवायी है। 

यदि आपके डॉक्टर कैंसर वाले हिस्से को हटाने के बाद आपके बृहदान्त्र या मलाशय को फिर से जोड़ सकते हैं, तो आपको सामान्य रूप से मल त्याग करने में सक्षम हो जाएँगे और आपको कोई कठिनाई नहीं होनी चाहिए। लेकिन अगर आपके डॉक्टर आपके बृहदान्त्र या मलाशय को फिर से जोड़ नहीं पाए, तो वह आपके पेट में एक छेद करेंगे, और उस छेद में बृहदान्त्र या आंत के एक छोर को जोड़ देंगे। इस छेद को “कोलोस्टोमी” (Colostomy) कहा जाता है। आपका मल त्याग, आपकी त्वचा से चिपकी हुई एक थैली, जो आपके शरीर में एक छेद से जोड़ी गयी होगी, उस में से बाहर निकलेगा।

कुछ लोगों को केवल थोड़े समय के लिए कोलोस्टॉमी करने की अस्थायी आवश्यकता होती है, जिसे “टेम्पर्री कोलोस्टोमी” (Temporary Colostomy) कहा जाता है। फिर उनके बृहदान्त्र या मलाशय को फिर से जोड़ने के लिए एक और सर्जरी की जा सकती है। अन्य लोगों को अपने जीवन के बाकी हिस्सों के लिए शायद कोलोस्टॉमी की स्थायी आवश्यकता होती ही है। इसे “परमानेंट कोलोस्टोमी” (Permanent Colostomy) कहा जाता है। यदि आपको कोलोस्टॉमी की आवश्यकता है, तो आपके डॉक्टर आपको ऐसे लोगों से संपर्क कराएँगे, जो आपको — कैसे इस स्थिति का प्रबंधन करें — यह जानने में मदद कर सकते हैं।

उपचार का समय काल समाप्त होने के बाद, आपको कुछ वर्षों तक अपने चिकित्सक से हर बार मिलना चाहिए। ऐसे, वह देख सकते हैं कि आपको कैंसर वापस हुआ है या नहीं। आपको संभवतः हर बार रक्त परीक्षण, कुछ अधिक कोलोनोस्कोपी परीक्षण, और एक विशेष प्रकार के एक्स-रे जिसको “सीटी स्कैन” कहा जाता है वह करवाना पड़ेगा। आपके डॉक्टर आपसे आपके मूड, तनाव के स्तर, यौन जीवन, खाने और व्यायाम की आदतों, और किसी भी अन्य समस्याओं, जो आपको उपचार के बाद हो सकती हैं, उनके के बारे में जानने के लिए बात-चित करेंगे।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp
Email
Skype
Telegram
Dr. Harsh J Shah